हिमालय के शिवालिक पर्वतमाला की पैर पहाड़ियों में स्थित कलेसर नेशनल पार्क बहुत ही खूबसूरत पर्यटन स्थल है। जहां जाकर आप अपना पूरा दिन सुकून से एन्जॉय कर सकते हैं। कलेसर नेशनल पार्क हरियाणा के यमुना नगर जिले में है और इसकी सीमा तीन राज्यों हिमाचल, उत्तरांचल और उत्तरप्रदेश से लगी हुई है। 8 दिसंबर 2003 को पार्क का क्षेत्र 11570 एकड़ होने पर इसे राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया गया था। नेशनल पार्क के नज़दीक ही कलेसर वाइल्डलाइफ सेंचुरी है। यहां बने कलेशर (शिव) मंदिर के नाम पर इस पार्क का नामकरण हुआ है। पूरा पार्क जैव विविधता गुफाओं के साथ वन, खैर के जंगलों और घास भूमि के धब्बों से भरा हुआ है। जो पौधों से लेकर जानवरों तक की प्रजातियों के लिए एकदम अनुकूल है।

कलेसर नेशनल पार्क में क्या है खास

कलेसर नेशनल पार्क में जंगली जानवरों की कई प्रजातियां देखने को मिलती हैं। घने जंगलों में शाकाहारी सांभर आसानी से देखने को मिल जाएंगे। इनके अलावा खुले घास के मैदानों में चीतल और बार्किंग डीयर भी देखे जा सकते हैं। गोरल, हिरण, नीलगाय और नीलबैल यमुना मैदान के खुली जगहों में पाए जाते हैं। जंगली सुअरों के अलावा राजाजी नेशनल पार्क से हाथी भी यहां कुछ समय निवास करने के लिए आते हैं। यहां के जंगलों में बंदरों की संख्या बहुत ही ज्यादा है।

मांसाहारी जंतुओं में तेंदुएं खास है जिनकी संख्या तकरीबन 10-12 है। इनके अलावा किंग कोबरा, मॉनिटर छिपकली, घोरल, अजगर और कभी-कभार राजाजी नेशनल पार्क से आए बाघ भी देखने को मिल जाते हैं। वाइल्डलाइफ को करीब से देखने के लिए यहां जीप सफारी की सुविधा भी अवेलेबल है। बायोडायवर्सिटी और इकोलॉजिकल स्थिरता के मामले में कलेसर नेशनल पार्क का खास महत्व है। जैव विविधता की वजह से ही यहां औषधीय पौधों की कई सारी प्रजातियां मौजूद हैं।

इन एक्टिविटीज को कर सकते हैं एन्जॉय
कलेसर नेशनल पार्क में फिशिंग से लेकर ट्रैकिंग, साइट सीइंग, स्विमिंग, बर्ड वॉचिंग और सफारी तक का मजा ले सकते हैं।

कब आएं
कलेसर नेशनल पार्क घूमने के लिए अक्टूबर से मार्च तक का महीना बेस्ट है। उस दौरान इन सभी पशु-पक्षी को देखना आसान होता है।

कैसे पहुंचे

  • हवाई मार्ग- चंडीगढ़, यहां का सबसे नज़दीकी एयरपोर्ट है जहां से कालेसर नेशनल पार्क की दूरी 87किमी है।
  • रेल मार्ग- यमुनानगर (जगधारी) यहां का नज़दीकी रेलवे स्टेशन है जहां से कलेसर नेशनल पार्क महज 37 किमी दूर है। पार्क तक पहुंचने के लिए रेलवे स्टेशन से आपको कैब, टैक्सी और बसों की सुविधा मिल जाएगी।
  • सड़क मार्ग- कलेसर नेशनल पार्क ज्यादातर शहरों के सड़क मार्ग से जुड़ा हुआ है। वैसे राज्य परिवहन की बसों द्वारा भी यहां तक पहुंचा जा सकता है।
SOURCEhttps://www.jagran.com
Previous articleTour and Travel agent in Churchgate, Mumbai, Maharashtra
Next articleZiro Music Festival 2018: म्यूजिक से प्यार है तो जरूर जाएं अरुणाचल प्रदेश

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here