नागुपर और मुंबई के बीच हाईस्पीड ट्रेन चलाने का प्रस्ताव अगर अमली जामा पहन लेता है तो मुंबई और नागपुर के बीच सफर का समय आधे से भी कम रह जाएगा। रेल मंत्री पीयूष गोयल के मुताबिक वो मुंबई-नागपुर सुपर एक्सप्रेसवे के साथ हाईस्पीड ट्रेन कॉरिडोर बनाना चाहते हैं। समृद्धि एक्सप्रेसवे के नाम से तैयार किए जा रहे इस एक्सप्रेसवे प्रोजेक्ट के लिए हजारो एकड़ जमीन का अधिग्रहण होना है।
 हाईस्पीड ट्रेन कॉरिडोर से घटेगा समय
हाईस्पीड ट्रेन से मुंबई से नागपुर का सफर केवल 5 घंटों में पूरा होगा जिसे अभी ट्रेन से पूरा करने में करीब 13 घंटे लगते हैं। मुंबई और नागपुर के बीच 700 किलोमीटर लंबे समृद्धि एक्सप्रेसवे प्रोजेक्ट की कुल लागत करीब 46 हजार करोड़ रुपए आने का अनुमान है। इस एक्सप्रेसवे के साथ ही हाईस्पीड रेल कॉरिडोर का भी प्रस्ताव है इसके लिए 9 हजार एकड़ जमीन भी अधिग्रहित की जानी बाकी है।हाईस्पीड ट्रेन से जुड़ेंगे महाराष्ट्र के दूसरे शहर
केन्द्रीय मंत्री नितिन गड़करी के मुताबिक हाईस्पीड मेट्रो के बनने से नागपुर के आसपास के दूसरे इलाकों वर्धा, भंडारा आदि के लिए भी रास्ते खुलेंगे। आगे इन शहरों को भी नागपुर से हाई स्पीड ट्रेन के जरिए जोड़ने पर विचार किया जा सकता है।नागपुर में मास रैपिड सिस्टम की तैयारी
हाईस्पीड ट्रेन के अलावा नागुपर शहर में मास रैपिड ट्रांसिट सिस्टम की भी तैयारी है हाईस्पीड ट्रेन को मेट्रो से जोड़ने के लिए इंडियन रेलवे और महाराष्ट्र मेट्रो के बीच समझौता हो चुका है। रोड ट्रांसपोर्ट और हाइवे मंत्री नितिन गडगकरी के मुताबिक ब्रॉड गेज लाइन पर दौड़ने वाले मेट्रो कोच की स्पीड 100 किलोमीटर प्रतिघंटा होगी जो सामान्य पैसेंजर ट्रेन की स्पीड से कहीं ज्यादा है।

दिल्ली एनसीआर में भी हाईस्पीड रैपिड ट्रांसपोर्ट
रैपिड रेल की तैयारी दिल्ली और इसके आसपास के शहरों के लिए भी हो रही है। जल्द ही दिल्ली और पानीपत के बीच रैपिड रेल सिस्टम काम करने लगेगा। इन दोनो शहरके बीच कुल दूरी 111 किलोमीटर है जिसमें 2 किलोमीटर अंडरग्राउंड होगा जबकि 109 किलोमीटर एलीवेटिड होगा। इसके अलावा दिल्ली और मेरठ के बीच भी रैपिड रेल सिस्टम की तैयारी चल रही है।

Previous articleट्रैवल के दौरान पैसे बचाने के ये हैं आसान टिप्स
Next articleकैसे पहुंचे मसूरी, जान लें पहुंचने के सभी विकल्प

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here